Well come

नाड़ी वैद्य कायाकल्प में आपका स्वागत है

नाड़ी वैद्य कायाकल्प में आपका स्वागत है

आयुर्वेद मे स्वस्थ व्यक्ति की परिभाषा इस प्रकार बताई है- समदोषः समाग्निश्च समधातु मलक्रियाः । प्रसन्नात्मेन्द्रियमनाः स्वस्थः इत्यभिधीयते ॥ ( जिस व्यक्ति के दोष (वात, कफ और पित्त) समान हों, अग्नि सम हो, सात धातुयें भी सम हों, तथा मल भी सम हो, शरीर की सभी क्रियायें समान हो .


पैकेज

आयुर्वेद में ही स्वस्थ व्यक्ति की परिभाषा है 

नवीनतम ब्लॉग
धर्म एक दृष्टि
कहते हैं सावन शिवरात्रि के दिन किए गए पूजन से ही भोले प्रसन्न हो जाते है और समस्त कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। यदि आज के दिन किया जाए पूर्ण विधि विधान के साथ शिव अभिषेक तो समझो सारे संकट पल में दूर ह...

और पढ़ें

संस्कृति की अवधारणा
संस्कृति जीवन की विधि है। जो भोजन हम खाते हैं, जो कपड़े पहनते हैं, जो भाषा बोलते हैं और जिस भगवान की पूजा करते हैं, ये सभी संस्कृति के पक्ष हैं। सरल शब्दों मे हम कह सकते हैं कि संस्कृति उस विधि का प्र...

और पढ़ें

राष्ट्र
१८५७ का भारतीय विद्रोह, जिसे प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम, सिपाही विद्रोह औरभारतीय विद्रोह के नाम से भी जाना जाता है ब्रितानी शासन के विर...

और पढ़ें